akbar birbal

0
5

 

akbar birbal stories in hindi

al

akbar birbal अकबर और बीरबल के किस्से तो कौन नहीं जनता इन दोनों की दोस्ती एक मिसाल है लोग बीरबल की तारीफ करते हुवे नहीं थकते थे और बीरबल की फरीफ सुनते हुवे अख़बार को बहुत ख़ुशी होती थी 

akbar birbal

एक बार की बात है कि बीरबल को एक राजा ने खाने पर बुलाया ये सुन कर अबकर बोले बीरबल से बीरबल तुम्हारे एक और मित्रो की लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया ये सुनकर बीरबल बोला महराज है मेको भी उन के सात रहना अच्छा लगता हे वो एक समझदार महारजा हे तो अख़बार बोले लगता हे की तुमको भी अच्छा लगता हे क्या तुम को लगता हे की वो मुझसे भी अच्छे महाराजा मानते हो तो बीरबल बोला की महाराज मेने ये बोला की वो एक अच्छे महाराज हे नाकि किसी से तुलना की 

akbar birbal ki kahani

सभी अखबार बोले ऐसा है तो तुम ने मरी उन से तुलना क्यों नहीं की या तुम ये मानते हो की हम एक अच्छे महाराज नहीं हे या फिर वो हम से अच्छे हे तभी अकबर ने अपने सेना पति से पूछा की आप बातये की हम अच्छे राजा नहीं हे या हमारे राज्य में कोई समस्या हे और वो हम उस समस्या का हल नहीं करते तभी सेना पति बोला नहीं महाराज हमारा राज्य सब से सुखी राज्ये हे 

akbar birbal


सेना पति बोला महाराज मेने बहोत राज्य देखे हैं पर आप के जैसा खुस और सुखी राज्य नहीं देखा महाराज आप के राज्य में सब खुश हे और सब का इंसाफ एक सामान करते हो और आप आप के राज्य के लोगो से ज्यादा लगन भी नहीं लेते हो और तो और आप गरीबो का पूरा दियन भी रखते हो जो आप के राज्य में अपने आप को मेफुश और भागयशाली मानते हे 

akbar birbal


महाराज हमारी सेना एक दम सकती साली हे हमारी सेना किसी से भी नहीं डरती हे और हर सिपाई आप की बहोत इज्जत करते हे वो भी दिल से महाराज ये सब सुन कर अख़बार बोले बीरबल तुम कुछ नहीं बोलेबीरबल बोला महराज में ये नहीं कर रहा हु की आप एक अच्छे राजा नहीं हो या में आप की तुलना किसी और के राज्य के राजा से आप की तुलना कर रहा हु तभी सेना पति बोला बीरबल तुम ऐसे महाराज की बेजती नहीं कर सकते हो एक तुम ही हो जो सब से अलग बोलते हो और कोई भी राज्य अलग नहीं बोलता हे तुम्हारे सिवा 

  महाराज बोले की तुम को नहीं लगता की कुशल राज्य हे तो बीरबल बोला की महाराज आप एक अच्छे राजा हे पर सब से अच्छे नहीं बीरबल बोला की महाराज सब में कोई ना कोई कमी होती हे सब इंसान में कमी होती हे ऊपर वाले ने हम को ऐसे ही बनाया हे उस समय सभा में से एक जना बोला की बीरबल तुम महाराज की इस तरा से सब के सामने पूरी सभा में अपमान नहीं कर सकते हो 

akbar birbal


अकबर बोले की बीरबल तुम ये मानते हो की हमारा राज्य एक अच्छा कुशल राज्य नहीं हे महाराज बोले की तुम ने हमारी बजती की हे बीरबल निकल जाओ या से तो बीरबल बोला समां करे महाराज मेरा मतलब ये नहीं था और ना ही आप को दुःख देना में बस ये बोल रहा हु की कोई भी इंसान सपुण्ड नहीं होते सब में कोई ना कोई कमी होती हे तो सेनापति बोला की तुम्हारी हिम्मत की तुम महाराज को बेतर होने की सला दो 

और वहां से बीरबल चला गया फिर दूसरे दिन महाराज को अपनी गलती का अंदाज हुवा और राजा अकबर समजakbar birbal गये की बीरबल उन से क्या कहना चाहता था और उनो ने सिपाई को बुलाया और बोले की जाओ बिलबाल को लेकर आओ और सिपाई गया पर बीरबल घर पर नहीं मिला राजा ने बोला उन के नौकर से पूछो की बीरबल कहा गया हे पर किसी को नहीं पता था की बीरबल कहा पर हे

akbar birbal

चार महीने हो गये पर बीरबल का कहीं भी पता नहीं चला राजा अपने दोस्त की कमी मासूस करने लगे राजा बहोत ही दुखी रहने लगे बीरबल की कमी उन को हर पल कमी मासूस रहती वो बीरबल के बारे में सोचते रहते थे महाराज अपनी गलती सोच कर दुःख रहते थेakbar birbal और एक सैनिक बोला महाराज क्यों ना हम अपना जासूस को बेज कर पता करे की कहा हे बीरबल

 अकबर बोले नहीं उस को हम खुद लेने जाएंगे बीरबल को हम ने चोट पोचाई हे पर उस को हम ढूढे कहा पर बीरबल के बहोत सारे  राजा महाराजा दोस्त हे वो उन ही किसी के सात होगा राजा ने दिमाग लगया की हम सब राजा को बुलगे एक ऐसा निमंत दे गे जो कीakbar birbal बस बीरबल ही समज सकता हे और कोई नहीं जिस राजा के या से इस का जवाब आयेगा वो वही होगा 

और फिर महाराज ने एक ऐसा निमंत दिया जो की बीरबल ही उस का जवाब दे सकता था और राजा ने सब को निमन्त दिया पर किसी को वो संदेस समज नहीं आया और किसी भी राजा ने जवाब नहीं दिया पर एक राजा ने उस का जवाब दिया तो महाराज समज गए कीakbar birbal इस का जवाब तो बीरबल ही दे सकता हे और राजा इराक के लिये रवाना हुवे और दोनों दोस्त एक बार फिर मिल गये और राजा ने मिलकर बीरबल से समां मागि और बीरबल को महाराजा अपने राज्य वापस लेकर अये 

और फिर उस राज्य में एक बार फिर से खुशी आगयी अकबर बोले मैरे दोस्त मेको माफ़ कर दे बीरबल बोला की महाराज आप   मको सर्मिन्दा ना करे माफ़ी मांग कर और फिर दोनों दोस्त सात में रहने लगे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here