apj abdul kalam full name,1

apj abdul kalam full name
apj abdul kalam full name

a p j abdul kalam,apj abdul kalam birthday,apj abdul kalam full name

a p j abdul kalam एक ऐसा व्यक्ति जो बचपन में अखबार बांटने जाता था जिसके पूरे परिवार ने अपना पैसा और धंधा खो दिया वह व्यक्ति भारत का राष्ट्रपति बना और मिसाइल से लेके सेटेलाइट तक लॉन्च किए यह हैं द मिसाइल मैन आफ इंडिया डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की अद्भुत कहानी और आप पढ़ रहे हैं द जीके ज्ञान आर्टिकल

Biography of A .P .J . ABDUL KALAM

apj abdul kalam full name अब्दुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था उनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 में रामेश्वरम में हुआ अब्दुल कलाम का जन्म एक तमिल मुस्लिम परिवार में हुआ

उनके पिता जैनुलाब्दीन एक मस्जिद के इमाम और एक कश्ती के मालिक थे कलाम की मां आशी अम्मा एक हाउसवाइफ थी उनके पिता के पास जो नौका थी उससे वह हिंदू लोगों को रामेश्वरम से धनुषकोडी और धनुषकोडी से वापस रामेश्वरम ले जाते थे कलाम के 3 बड़े भाई थे और एक बहन थी वह अपने बड़े भाइयों से बहुत जुड़े हुए थेapj abdul kalam full name और वह अपनी पूरी जिंदगी उनको थोड़ा थोड़ा पैसे भेजते रहे कलाम अपनी सरल जिंदगी के लिए जाने जाते थे

उन्होंने कभी टीवी नहीं खरीदा और उनकी आदत थी रोज सुबह 6:30 से 7:00 के बीच उठना और रात को 2:00 बजे तक सोने की धर्म और आराध्यमिक्ता बहुत मायने रखती थी यहां तक की उन्होंने किताब भी लिखी जिसका नाम था Transcendence a p j abdul kalam के पूर्वज काफी अमीर थे और उनके पास कई एकड़ जमीने थी जब पम्मन पुल का निर्माण हुआ तब उनके परिवार ने लोगों को लाने ले जाने का व्यापार पूरा खो दिया

क्योंकि अब फुल होने की वजह से कश्ती कि लोगों कोapj abdul kalam full name जरूरत नहीं रही इस घटना के बाद उनका व्यापार तो तहस-नहस हुआ ही सही लेकिन साथ ही साथ उनके पैसे और जमीने भी धीरे-धीरे खत्म होने लगी

a p j abdul kalam

a p j abdul kalam के जन्म होने तक उनका परिवार पूरा गरीब हो चुका था कलाम को छोटी उम्र में ही अखबार बांटने जाना पड़ा जब वह स्कूल गए तब उनके अंक काफी साधारण आते थे लेकिन शिक्षकों के द्वारा उनको हमेशा एक गजब और एक मेहनती छात्र बोला गया और उनमें हमेशा एक चाहत थी पढ़ने की वह हमेशा गणित पर घंटों तक काम करते थे

Schwartz Higher Secondary school मैं उनकी पढ़ाई होने के बाद वो Tiruchirapalli चले गए जहां पर उन्होंने St. Jospeph Collage दाखिला लिया और वह 1954 में Physics ग्रेजुएट बने 1955 में मद्रास चले गए और Aerospace engineering
Madras Institute of Technology से उन्होंने की जबapj abdul kalam full name वो प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे उनके कॉलेज के एक अध्यक्ष ने उनकी प्रगति देखी और वह उनसे बिल्कुल प्रभावित नहीं हुए और उन्होंने कलाम को बुलाया है

और बोला कि अगर तुमने 3 दिन के अंदर प्रोजेक्ट को पूरा नहीं किया तो तुम्हारी स्कॉलरशिप वापिस ले ली जाएगी कलाम को इंडियन एयर फोर्स ज्वाइन करने की बहुत इच्छा थी लेकिन वह एक पोजीशन से रह गए वह नौवें स्थान पर थे और सिर्फ 8 पोजीशन खाली थी मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ apj abdul kalam full nameटेक्नोलॉजी में 1960 पढ़ाई खत्म करने के बाद a p j abdul kalam एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट के साथ जुड़ गए वहां पर वो एक साइंटिस्ट के तरह जुड़े उन्होंने अपना कैरियर एक छोटे होवरक्राफ्ट डिजाइन से चालू किया कलाम इनकॉस्पर कमेटी में भी शामिल थे

जहां उन्होंने विक्रम साराभाई के अधीन काम किया विक्रम साराभाई एक बहुत ही जाने-माने space scientist थे फिर 1969 मैं कलाम को इसरो इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन में तबादला हो गया इसरो में वह इंडिया के पहले सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल जोकि slv-3 मैं प्रोजेक्ट डायरेक्टर थे इस व्हीकल ने रोहिणी सेटेलाइट को धरती के आर्बिट मैं रहा कलाम ने फिर एक्सपेंडेबल राकेट पर अकेले ही कामapj abdul kalam full name करना शुरू कर दिया लेकिन 1969 में भारत सरकार ने उनके प्रोजेक्ट को अनुमति दे दी और कहा कि उनकी प्रोजेक्ट पर एक टीम भी बनाई जाए

1963 में वह नासा रिसर्च सेंटर में भी गए राजा रावण ने कलाम को बुलाया भारत का पहला परमाणु परीक्षण स्माइलिंग बुद्धा को देखने के लिए कलाम ने प्रोजेक्ट डेविल और प्रोजेक्ट वेलियंट पर भी काम किया और इन प्रोजेक्ट्स में उन्होंने बैलेस्टिक मिसाइल बनाई यूनिक कैबिनेट ने कलाम के प्रोजेक्ट को अनुमति नहीं दी थी

apj abdul kalam full name
apj abdul kalam full name

लेकिन फिर भी प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने गुप्त रूप से उनको धन दिया ताकि उनके एयरोस्पेस के प्रोजेक्ट पूरे हो सकें
कलाम ने यूनियन कैबिनेट को गुप्त प्रोजेक्ट्स के बारे apj abdul kalam full nameमें बताया और इनकी महत्वपूर्णता समझाई
इन सब चीजों ने कलाम का नाम बहुत ऊंचा कर दिया इसीलिए भारत सरकार ने उनको उच्च मिसाइल प्रोग्राम्स चालू करने के लिए बोला काफी सारे मिसाल प्रोग्राम्स मेंapj abdul kalam full name भागीदार रहने की वजह से उनको मिसाइल मैन ऑफ इंडिया भी कहा जाता है

अग्नि मिसाइल और पृथ्वी मिसाइल को बनाने में कलाम का बहुत ही बड़ा योगदान था पृथ्वी और अग्नि मिसाइल की बहुत आलोचना हुई क्योंकि उनको बनाने में काफी समय और पैसा लगा और उसका मैनेजमेंट ठीक से नहीं हो पाया 1992 से लेकर 1999 तक वह चीफ साइंटिस्ट एडवाइजरapj abdul kalam full name रहे और इस दौरान पोखरण 2 न्यू क्लियर परीक्षण भी किया इस न्यूक्लियर परीक्षण ने मीडिया में a p j abdul kalam का नाम काफी ऊंचा कर दिया था

लेकिन साइट के डायरेक्टर केशांथ नम ने कहा कीapj abdul kalam full name थर्मोन्यूक्लियर बॉम्ब का परीक्षण अपेक्षित परिणाम नहीं दे पाया और यह एक सफल घटना थी और उन्होंने कलाम की आलोचना की और कहा कि जो उन्होंने रिपोर्ट दी है वह गलत है

लेकिन फिर चिदंबरम और कलाम दोनों ने इस बात को खारिज कर दिया a p j abdul kalam की जिंदगी में एक बहुत ही बड़ा मोड़ आया 10 जून 2002 को एनडीए यानी नेशनल डेमोक्रेटिक रिलायंस ने कलाम को राष्ट्रपति के लिए नोमिनेट किया

समाजवादी पार्टी और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी दोनों ने इस बात का समर्थन किया और वह फिर भारत के 11 वें राष्ट्रपति बने 2002 में चुनाव हुआ और कलाम ने विशाल जीतapj abdul kalam full name हासिल की उनको 9 लाख से भी ज्यादा वोट मिले और उनके प्रतिद्वंदी लक्ष्मी सहगल को करीब 1 लाख वोट ही मिल पाए यह जीत बहुत ही बड़ी जीत थी

कलाम को भारत का सबसे बड़ा सिविलियन सम्मान भी दिया गया भारत रत्न भारत रतन के साथ-साथ उनको पद्म विभूषण और पद्मभूषण से भी सम्मानित किया गया जब तक वह प्रेसिडेंट बने रहे तब तक वह लोगों के प्रेसिडेंट के नाम से प्रचलित हुए जब उनके 5 साल राष्ट्रपति के तौर पेapj abdul kalam full name खत्म हो गए तब उन्होंने अपने वापस राष्ट्रपति बनने की इच्छा प्रकट की लेकिन यह बोलने के लिए दो ही दिन बाद उन्होंने फैसला बदल दिया कि वह प्रेसिडेंट इलेक्शन में खड़े नहीं होंगे इसके बाद वह शिलांग इंदौर और अहमदाबाद के IIMK विजिटिंग प्रोफेसर बन गए

वह इंडियन इंस्टिट्यूट ऑक्सपेक्स साइंस टेक्नोलॉजी तिरुवंतपुरम के चांसलर बने और अन्ना यूनिवर्सिटी में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के प्रोफेसर भी बने और भी उन्होंनेapj abdul kalam full name कई इंस्टिट्यूट ज्वाइन किए 2012 में भारत के जवान लोगों के लिए उन्होंने एक प्रोग्राम बनाया व्हाट कैन आई गिव मोमेंट यह प्रोग्राम भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए था

कलाम ने काफी सारी बुक्स लिखी जैसे इंडिया 2020 विंग्स आफ फायर इगनाइटेड माइंड्स और यह सारी बुक्स काफी पॉपुलर हुई 27 जुलाई 2015 में कलाम शिलांग चले गए जहां पर उनको क्रिएटिंग ए लिवाबल प्लांट एअर्थ पर लेक्चर देना था यह लेक्चर उनको आई एम शिलांग में देना थाapj abdul kalam full name जब वह सीडी चल रहे थे तब उनको कुछ बेचैनी सी हुई और ऑडिटोरियम में जाने के बाद उन्होंने थोड़ा आराम किया 6:35 पर लेक्चर शुरू होने के सिर्फ 5 मिनट ही हुए थे

और वह गिर गए उनको फिर bethany hospital में भर्ती कराया और वह 7:45 पर दुनिया छोड़कर चले गए उन्होंने अपने आखिरी शब्द श्रीजन पाल सिंह से बोले उन्होंने कहा funny guy are you doing well apj abdul kalam biography सबके लिए एक प्रेरणा का स्रोत बने हुए हैं

खासकर युवा उनको अपना आइडल मानते हैं तोapj abdul kalam full name यह थी डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम की कहानी तो आप और किस व्यक्ति की कहानी आर्टिकल में पढ़ना चाहते हैं कमेंट सेक्शन में बताइए