rakesh tikait top1

0
47
rakesh tikait
rakesh tikait

Rakesh Tikait Biography,rakesh tikait,rakesh tikait net worth,rakesh tikait property

राकेश टिकैत काफी टाइम से सुर्खियों में है उस का एक मुख्य कारण है तो चलो इन ही बातो पर हम आज आप को अतयेगे राकेश टिकैत कौन सी जाती के है और वो कहा के रहने वाले है इस ही कुछ बातो पर हम बाते करेगे और एक दम से वो सुर्खी में क्यों आये

दोस्तों आप ने ज्यादातर देखा होगा हमारे भारत में कोई ना कोई सुर्खियों में रहता है खास कर के हमारे भारत के नेता या फिल्म स्टार कोई ना कोई मुद्दे को लेकर ज्यादा तर राजनीति को लेकर सुर्खी में रहता है

और कुछ तो ऐसे भी है जो अपना ही कोई मुद्दे को लेकर जैसे की काम से काम 7.8 महीनो से चल रहे किसान आंदोनल की वजे से राकेश टिकैत सुर्खी में है rakesh tikait अपने आप को किसानो का नेता बता ता है

राकेश टिकैत का जीवन परिचय बता ता हु

नाम                     राकेश टिकैत

जन्म            4 जून 1969

जन्म स्थान     उत्तर प्रदेश शिशोली

पिता का नाम     महेंद्र सिंह टिकैत

जाति              जाट

धर्म                   हिंदू

पेशा                 भारतीय किसान यूनियन के नेता।

संपत्ति        4 करोड़ (लगभग)

rakesh tikaitका जन्म up (उत्तर प्रदेश) में हुआ था 4 जून 1969 लखनऊ में हुवा था राकेश टिकैत के पिता का नाम मेहन्द्र है और वो एक किसान परिवार से थे उन के पिता के मौत के बाद राकेश टिकैत  घर में सब से बड़े थे इस लिए वो मुख्या थे

उन को किसान का यूनियन लीडर नेता भी rakesh tikait ने अपनी पढ़ाई उतर प्रदेश (up ) के मेरठ से की वो आर्ट्स की डिग्री थी और उस के बाद उनोने वकालत भी की है वकालत की पढ़ाई के बाद वो वकील भी बन गए

राकेश टिकैत को पुलिस की नौकरी क्यों छोड़नी पड़ी

इस का मेन कारण थे उन के पिताजी क्यों की जब वो दिल्ली में सब इंस्पेक्टर थे तब उन के पिताजी दिल्ली में किसान आंदोलन कर रहे थे तब राकेश टिकैत के ऊपर प्रेसर बनया गया की वो अपने पिताजी को समजाये की ये आंदोलन ख़त्म कर दे पर उनोने इसा नहीं क्या बल्कि उनोने अपनी नौकरी से इस्तवा देदिया और अपने पिताजी के सात आंदोलन में होगये

 राकेश टिकैत के बच्चे और शादी

राकेश टिकैत की शादी हुई थी सन 1985 में उत्तर प्रदेश एक छोटे से गाँव में हुई

गांव का नाम दादरी था उन की पत्नी का नाम सुनीता देवी है

 

कुछ सालो के बाद उन के घर में एक पुत्र हुवा टोटल उन के दो बच्चे है जिस में से एक बेटा है तो एक बेटी है उन के बेटे के नाम चरण सिंह  है और उन की बेटी के नाम ज्योति  है इन दोनों की शादी भी हो गयी है

rakesh tikait property

राकेश टिकैत ने एक दम से किसान आंदोलन कर के अपने आप को सुर्खी आ गए राकेश टिकैत दो बार भी वो चुनाव लड़ चुके है और दोनों ही बार उन को हार का सामना करना पड़ा था उनोने 2014 में चुनव के लिए लोगसभा के लिए नामांकन पत्र दायर किया था, तब उन की कुल सपति  4,25,18,029 रूपए की थीं। इतनी संपत्ति ना तो किसी पुलिस की नौकरी करने पर बना सकता है और ना कोई किसानी कर के

rakesh tikait
rakesh tikait

लेकिन जब उन्होंने अपने डोकोमेंट( नामांकन पत्र) के हिसाब से उनोने अपनी property में टोटल कुल सम्पति ही 10,00000 ही बताई थी आज की तारिक के राकेश टिकैत की  propertyकी बात करे तो जो सम्पति बताई है उस की तिगुनी है

Rakesh Tikait net worth

राकेश टिकैत की नेट वर्थ की बात करे तो उन के सम्पर्क बड़े बड़े नेताओ से भी कहने को वो एक किसान यूनियन के अद्याक्ष है पर उन का सम्पर्क हर बड़े बड़े इंसानो से है उन का उठना बैठना बड़े बड़े लोगो के सात है Rakesh Tikait net worth काफी मजबूत है

आखिर राकेश टिकैत हैं कौन

भारत में जब भारतीय किसान यूनियन स्थापना सन 1987 में ये इस लिए यूनियन बनाई गयी थी तब बिजली के बढ़ते दामों को देखते आंदोलन क्या गया था  उस समय पहली बार यूनियन स्थापना की गयी थी उस समय उस यूनियन के लीडर जो थे वो राकेश टिकैत के पिता महेंद्र सिंह टिकैत थे ये आंदोनल जनपत गांव में क्या गया था 

केन्द्र सरकार ने जब कृषि 3 कानून बनाया था तब इस कानून को वापस लेने के लिए उतर प्रदेश की बॉडर पर आंदोनल 7. 8 महीनो से जो आंदोनल क्या उस में राकेश टिकैत उस किसान आंदोनल में यूनियन लीडर थे ये

कानून 2020 में बना था ये कानून को वापस लेने के लिए ये आंदोनल क्या था और उस आंदोनल में केन्द्र सरकार वो कानून वापस भी लिया था इस आंदोनल से पुरे भारत में राकेश टिकैत को जान ने लग गए थे

टिकैत का मंदिरों के खिलाफ भड़काना 

टिकैत का मंदिरों के खिलाफ लोगो को भड़काया जिस से की पूरा ब्राह्मण समाज राकेश के विरुद हो गया है उस का मुख्य कारण है की उस ने मंदिर के खिलाफ भला बुरा बोला देखा जाये तो उस ने भड़काऊ भासन देखर लोगो को भड़काया है इस लिए पूरा  ब्राह्मण समाज  उस का विरोद कर रही है

 

इस को केवल इस लिए जना जा रहा है की ये किसानो का यूनियन लीडर है इस आंदोलन से ये सुर्खी में है

तीनों किसान बिल वापसी

इस बिल वापसी का आंदोलन कम से कम ८ महीनो से चल रहा है दिल्ली की बोदर पर डेरा रखा है इस बिल को केंद्र सरकार ने वापस लेलिया है उस के बाद भी इस आंदोलन को ख़तम नहीं क्या जा रहा है किसानो की अड़ में ये अपनी मन मानी कर रहे है ये लोग

  1. Ajmer Sharif dargah786
  2. akbar birbal story in hindi 1

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here