ram mandir ayodhya

0
10

ayodhya ram mandir history

ये बात तो भारत के बच्चे को पता है की भगवान राम जी का जन्म अयोध्या  में 1853 हिन्दू और मुस्लिम में इस जमीन को लेकर झगड़ा भी हुवा था 1859 में हिन्दू और मुसिलम के झगड़े को देखकर अग्रेजो  ने दोनों

ram mandir ayodhya


 को अलग अलग हिंसा देदिया था जिस में हिन्दू को बहार का हिंसा मिला था और मुसिलम को अंदर का 1949 में अंदर जोकि वो हिंसा मुसिलम को मिला था वह भगवान राम जी की मूर्ति थी झगड़ा बढ़ने के कारण अग्रेजो ने उस गेट पर ताला लगा गया था

सन 1986 कोट के आदेश ने उसे गेट को खोलने का आदेश दिया पर इस आदेश का विरोद क्या मुस्लिमो क्यों की उन को ये हिन्दू अंदर आए ये उन को पसंद नहीं था इस लिए उनोने इस का विरोद क्या 1989 में राम मंदिर

 का मुमित शुरू की सन 6 December 1992 बाबरी मजीत गिरदी गयी और हिन्दू और मुशील का झगड़ा हुवा उस में काम से काम 3 हजार लोग मारे गए 

ram mandir ayodhya


1996 में राम जन्मभूमि न्यास ने केंद्र सरकार से जमीन मांगी पर उन की बात किसी ने नहीं मणि और बात को ठुकरा दी उस के बात ये बात कोट में भी राखी गयी पर वह पर भी उन की बात  ठुकरा दी गई 

ayodhya ram mandir

भगवान विष्णु के अवतार माने जाने भगवान राम जी है हिन्दू  धर्म में पूजे जाने देवता है 

भगवान राम मंदिर का निर्माण का काम 11  जनवरी 2014 से शुरू हो गया था और इस मंदिर का  निर्माण  सच्चिदानंद चौहान ने शुरू क्या था पर राम मंदिर का निर्माण होते होते रोक गया और राम मंदिर कानून ही कागजो में

ram mandir ayodhya


 फास गया कोन है और राम मंदिर के अधिकारी को कानून की लड़ाई लड़नी पड़ रही है निगम ने उस काम को रोक ने की कोशिश की जहा पर मंदिर की मूर्ति बन्नी थी  भगवान राम मंदिर के निर्माण की इतनी ख़राब हो गयी थी की मंदिर के सदस्यों के लिए कोट से उन की सुरक्षा ली गई

मंदिर के सदस्य  ने बताया की राम मंदिर की जमीन पर कब्ज़ा क्या था पर कोट का आदेश मंदिर के पक्ष में था और मंदिर का निर्माण  चालू रहा और मंदिर का निर्माण उच्च न्यायालय  की देख रेख में हो रहा है


कुछ सालों में ये तो देखने को मिला है की हिन्दू अब मंदिर की और जाने लग्र है जब से राम मंदिर के पक्ष में केश गया है जब से हिन्दू ने मजीत जाना बंद कर दिया है और मंदिर की और ज्यादा पालयन हो रहे है एमसीडी भूखंड जमीन पर कब्जा कर के ये जमीन बजरंग दल को देना चाहता था  की वो इस जमीन  पर मंदिर बनाय 

ayodhya ram mandir image
 क्या आप को पता है की राम मंदिर डिजाइन कब और कहा हुवा था भगवान राम मंदिर का डिजाइन अमदाबाद के सोमपूरा एक परिवार ने तैयार क्या था सन 1988  को और दोस्तों क्या आप को पता हैं की सोमपुरा परिवार ने

 कितने मदिर का निर्माण क्या है तो दोस्तों उनोने काम से काम 100 से 150 मंदिर का मिर्माण क्या है और उन की 16 पीढ़ी ये काम करती आ रही है मंदिरो का निर्माण
भगवान राम मंदिर का डिजाइन करने के लिए सोमपुरा के २०२० सोमपुरा वशियो ने मंदिर का डिजाइन तैयार क्या है मंदिर की लम्बाई और चौड़ाई कितनी है राम मंदिर की लाबाई है 360  और चौड़ाई है 235 है मंदिर के गेट पर एक अलग ही डिजाइन क्या हुवा है और ये डिजाइन सोमपुरा के परिवार के बेटो ने की है 

राम मंदिर इस तरा से डिजाइन क्या गया है की उस में एक एक चीज भगवान राम जी के शास्त्र का कक्ष अलग और उनकी विश्राम का कक्ष अलग और प्रार्थना करने का कक्ष अलग हर चीज को इतनी बारीक़ से डिजाइन क्या गया है की जब आप लोग मंदिर को देखो गे तो आप को लगे गा की आप स्वर्ग में हो 

ram mandir ayodhya
भगवान राम मंदिर का निर्माण शुरू हुआ मार्च में उस के बाद भारत में लॉडाउन की वजे से मंदिर का निर्माण रुक गया जब भारत में इस्थि सुथरी तब राम मदिर का निर्माण शुरू हुवा और मंदिर की जब खुदाई हुई तो

 भगवान की मूर्ति  और शिव लीग  भी निकले और भगवान राम मदिर के निर्माण में लोगो ने दिल खोल कर दान दिया जिस की जितनी हिमत थी किसी ने 10 रुपये दिए तो किसी ने 10 लाख मंदिर के निर्माण के लिए पत्थर राजस्थान से भी आये है 

 राम मंदिर का भूमि पूजन  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने क्या राम मंदिर में पवित्र नदी के पानी पूजा की गंगा यमुना सरस्वती कवरी और भी पवित्र नदियों के पानी से भगवान राम मंदिर की भूमि पूजन की और प्रधानमंत्री मोदी जी ने लोगों को जाये श्री राम का नाम लेने को कहा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here